आज फिर मन उदास है,

आज फिर मन उदास है,
कोई अपना नही पास है…

              चल रही हूँ जिन रहो मे,
              कभी फूल है कभी काँटे है…

काँटों से दामन छलनि हो जाए,
पर फूलों की मुझे आस है…

              रात के आँधियारों से डर क्या मुझे, 
              धूप की तपन की आदत है मुझे…
 
बारीशों मे भी जिसने जलना सीखा,
तूफ़ानों से उसे कुछ आस है…

             परयों से डर क्या मुझे,
             डर  तो अपने आप से है..

Advertisements

वो शब्दों की बात करता है…

वो कहता है, तुम अपना प्यार शब्दों में बयां करती हो कैसे ?

वो शब्दों की बात करता है …

जो दिल में धड़कता है , सांसों में बसता है ,
जी रही हूँ , बस उसका नाम लेकर ,
मरना भी है , बस उसका नाम लेकर ,

जो आँचल मे समा जाए , वो प्यार तो कम है ,
जो शब्दों मे आ जाए वो , वो प्यार भी कम है ,

 वो शब्दों की  बात करता है…
जो दिल में धड़कता है , सांसों में बसता है ,