तीस की उमर,सोलह की तरह जानी…(नया साल 2010)

नये साल मे, सब कुछ नया है,
हमने भी कुछ, नया करने की ठानी,
तीस की उमर को,
सोलह की तरह जानी…

दिल तो आसानी से,
सोलह का हो गया,
रही- सही कसर,
चेहरे के लिए और शरीर के लिए जानी…

सारे जतन करने के लिए,
कमर हमने बँधी…

बालों की सफेदी,
कलर से उड़ा दी,
चेहरे की लालिमा,
फेशियल से चमका ली,
जो बची थी कसर,
कपड़ों से जमा ली,

और

रिंकल क्रीम लगा ली,
फेस लिफ्टिंग की भी ठान ली,
योगा /वर्ज़िश सब मे हाथ साफ कर डाला,
अपनी अदाओ मे भी नया हुनर डाला…

अपने को रूपमति माना और जाना…

१०, १५ दिनो मे जब,
बलों की सफेदी लहराई,
फेशियल की लालिमा,
झुर्रियों ने छुपाई,
योगा और वर्ज़िश ने जब,
अपनी अकड़न दिखलाई,

सोलह साल की असली,
रौनक-चमक हमको याद आई,
अपनी उमर की गरिमा और महिमा,
माँ के रूप मे सामने आई…

नये साल मे कुछ अलग और बेमिसाल करना है,
ये बात हमारे सामने आई…

Advertisements