Be Amazing, Not Normal #Shakuntaladevi

Watched Shakuntala Devi in two parts yesterday & day before yesterday. The second half part is more powerful to me. Though I felt the first half could be more interesting by showing her struggle in childhood & I have noticed a few very strong points in her character, those are the need of today, specifically for a girl to deal with society by standing alone and strong…

Power of 10

1) genius

2) focused

3) determined

4) independent

5) not bothering about others

6) adapting changes according to the environment

7) more spanive mentality

8 awesome sense of humor

9) charming10) having good marketing skills

Few negatives

1) egoistic

2) dominant

3) hater

From my side, all 3 negative marks become zero coz when someone has all above 10 these 3 negatives are pretty obvious… No one can be perfect… But

Amazing

(one of my favorite word writer used in the movie)

#SHAKUNTALADEVI 

To watch this movie and understand her as a person, one should come out of the box and not except this movie like a common Hindi movie of sacrifices or social services or emotional drama of a woman but the concept is based on A Woman who is grooming herself every time, everywhere, who knowns her abilities, qualities, tactics, charm, affection, glory, her power, name fame, and money & how to deal with a situation without losing her self. Though she also lost herself a couple of times in her lifetime, this movie is really showcasing on a Single Woman Army strategy.

Shakuntala Devi’s movie is more about a love-hate, misunderstanding relationship of a mother & daughter without losing your identity. A must watch a movie.

Happy Friendship Day to all my friends… 

Live your life fullest on your vogue, go to your own journey, enjoy & explore every station but be reach up to your final destination, don’t lose yourself in between. If you lose take a dear breath, pause yourself & recollect yourself, motivate yourself & become positive again for yourself. Because no one else is important than you. One day everyone can understand you. But don’t make them

Understood you when they are not ready to learn to listen to you. If your instinct is right to put your all effort to get it. Sooner or later everyone will recognize you and your personality.

Fulfill your all dreams either your alone or with someone, but don’t lose yourself, Because you are your best friend & no one knows you better than you…

Be Amazing, not ordinary 

Nidhivedi…

हे नीर !  

हे नीर !

“माँ” कहा तुझको हमने,

जीवन दान लिया हमने !

बहाकर अपने, पापों को, तुझमे !

जीवन का उध्धार किया, सबने !

“माँ” है, तू !

पाप हमारे लेती रही,

हमको जीवन देती रही !

अपना मैला तन- मन, तुझमे हम सब धोतेरहे!

तेरे आँचल को हम सब, बंज़र- सूखा करते रहे!

तेरी कृष काया पे, जीवन के नये अंकुर,

कैसे रोपे हम?

तुझको कैसे बचा सके “निधि” सोचे यह?

एक सार्थक प्रयास हमारा,

तेरा आशीर्वाद दे जाएगा,

जीवन के नये रूप,

जल, थल, गगन को दे जाएगा !

जीवन का अमृत, नीर !

जीवन का सरगम सुनाएग !

तेरे आँचल मे माँ !

सरल, सुलभ, सुंदर जीवन राग

फिर गुनगुनाएगा !

14/4/18

7am-9am

#Join our hands together to save

#NallagandalaLakeHyderabad

” माँ “

मेरी परम पूज्‍यनीय नानी.. स्वतंत्रता संग्राम सेनानी श्रीमती सुशीला देवी दीक्षित को, मेरी माँ… श्रीमती छाया त्रिवेदी का श्रद्धासमर्पण…                           

                                                 स्वतंत्रता संग्राम सेनानी श्रीमती सुशीला देवी दीक्षित    महाप्रायण १९ फ़रवरी २०१०


माँ तुम्हे कैसे मनाऊँ?
कैसे तुम्हारे गुण गाऊँ?
मन का चंदन, कर्म का अक्षत,
भावना के पुष्प चढ़ा,
साँसों का संगीत सुनाऊं,
माँ तुम्हे कैसे मनाऊँ?

सागर की स्याही बना,
आकाश की कलम से,
धरा मे ममता की कथा,
कैसे मैं लिख पाऊँ?
माँ तुम्हे कैसे मनाऊँ?

माँ तुम्हारे विश्वास का दीप,
अथक परिश्रम सूखा शरीर,
एक स्वप्न केवल तुम्हारा,
कैसे बच्चों का जीवन बनाऊँ?
माँ तुम्हे कैसे मनाऊँ?

अहर्निश बच्चों की चिंता,
ममता से सींचीं बगिया,
देख सब कुछ, सुख-दुख,
ईर्ष्या, द्वेष, राग, अनुराग,
छीनता जीवन, टूटते रिश्ते,
पल पल की पीड़ा तुम्हारी,
कैसे मैं भूल पाऊँ?
पाषण भी पिघल जाए,
वो गाथा कैसे सुनाऊं?
माँ तुम्हे कैसे मनाऊँ?

मन मे राम, हाथ मे काम,
अथक परिश्रम से सँवरा,
घर वो प्यारा,
हर्षोल्लास के   छण मे,
तुम जब खुश हो जाती,
दे आशीष सदा,
अम्रत रस लुटाती,
द्रवित होता जब मन तुम्हारा,
आह भी तुम ले ना पाती,
माँ तुम्हारे दुख तक,
कैसे मैं पहुँच पाऊँ?
माँ तुम्हे कैसे मनाऊँ?

कैसे मैं अनमोल धन का,
रिन चुकाऊं?

माँ तुम्हारे रूप मे,बेटी को मैं पाऊँ?
दर्द तुम्हारा कैसे मनाऊ?
माँ तुम्हे कैसे मनाऊँ?

धवल केश कंपित गात,
मात्र मूरत की झुर्रियों मे,
छाया प्रतिदिन,
प्रभु दर्शन पाऊँ?

माँ तुम्हे कैसे मनाऊँ?
माँ तुम्हे कैसे मनाऊँ?
                                                                                                                             

                                                                                                       द्वारा  श्रीमती छाया त्रिवेदी

पुनी पुनी चंदन पुनी पुनी पानी…

पुनी पुनी चंदन पुनी पुनी पानी….

अपनी सहेली के ग्रहप्रवेश के फोटो देखने के बाद.आज बचपन की एक कहानी याद आ गयी.

एक गुरुजी होते है, उनके शिष्य बहुत मूर्ख और आलसी होते है.
गुरु जी को एक समय, बहुत आवशयक काम से, दूसरे शहर जाना होता है.
अपने सबसे मूर्ख और आलसी चेले को, वो एक काम सौपकर जाते है.
ये सोचकर की इस काम को करने से, चेला कुछ सीखेगा और कम आलसी बनेगा.
सुबह ४ बजे से जागकर, शालिग्राम जी (काले वाले शंकर जी), को नहलाना है,
हर बार नहलाने के बाद चंदन लगाना है,
कुछ खास मन्त्र याद करके, उनकी पूजा करनी है, और भी बहुत कुछ.
चेला तो चेला… कुछ भी नही किया…
जिस दिन गुरु जी आने वाले थे, उस दिन भाग कर नदी गया,
ताकि भगवान को नया चंदन लगा सके, नदी मे शालिग्राम जी बह गये.
चेला तो चेला… बहुत सोचा क्या कर, क्या उत्तर दे, गुरु जी को?
रास्ते मे उसे एक जामुन का पेड़ मिला, उसमे से एक जामुन गिरा,
शिष्य को रास्ता मिल गया…
जब गुरु जी आए, उन्होने शालिग्राम जी को छूकर देखा, तो पूछा,
शालिग्राम जी ऐसे, पिलपिले( चिपचिपे) कैसे हो गये?
शिष्य बोला, आपने ही कई बार भगवान नहलाने और चन्दान लगाने कहा था,
पुनी पुनी चंदन, पुनी पुनी पानी, शंकर सड़ गये हम क्या जानी?????
(अब , बार बार ऐसा करने से शंकर जी “सड़” गये और पिलपिले हो गये… तो मैं कैसे जानूं?)
हा हा हा…
कहानी की शिक्षा बहुत सारी है… तुम खुद सोच सकते हो, अगर चेले सा दिमाग़ नही होगा तो…

नवयुवती

सड़क के गढ्ढों मे, डोलता हुआ, आटो चला जा रहा था,
एक स्टॉप मे, नवयुवती के चढ़ते ही, सारी नज़रे उस पर टिक गयी,

कुछ मनचलों ने, दो-चार ओछे शब्द उस पर गढ़ दिए,
जो ना बोल पा रहे थे, उनकी  नज़रों ने ही, शब्दों को  गढ़ दिया,

थोड़ी ही दूर पर, एक बाईक, ऑटो के साथ हो ली,
माज़रा  समझते देर ना लगी, 

आटो के सामने, उन मनचलो ने, गाड़ी अड़ा दी,
चालक के,  ऑटो रोकते ही, लड़ाकों ने लड़की को खीचने की कोशिश की,

ऑटो वाले ने हाथ जोड़कर लड़की से कहा,
बेटी मैं तो बूढ़ा हो गया हूँ, रोज़ रोज़ के तुम्हारे इस अपमान से, मरणासन्न हो रहा हूँ,

जवान लड़के ही क्या, औरते भी तुझे साथ नही देती है,
अच्छा होता जो, तू बीमार माँ की, दावा और भाई की पढ़ाई के लिए,  इनके बाप से, उधार ना लेती,

हर किसी को, तुझमे ही बुराई नज़र आती है,
क्योंकि तू, जवान सुंदर लड़की, इनकी बेटी या बहन नही, पराई है,

तुझे सब ताने मार जाते है, नज़रों से तेरा चरित्र गिरा जाते है,
इन मनचलों के, इरादों को, बुलंदी दे जाते है,

एक आवाज़ भी तेरी, तरफ नही उठती है, 
तू ,रोज़ रोज़ ये अपमान,  कैसे सहती है?

लड़की ने उतरते हुए भी कुछ ना कहा,
एक क्रोध भरी नज़रों से, सबको देखा,

जो नज़रें उसे ताने मार रही थीं,
मानों धरती मे दबी जा रही थीं,

बिन कहे ही, उसकी नज़रों ने, हम सबको पानी कर दिया,
उसकी तीखी मुस्कान ने, हम सबको बेज़ुबान कर दिया…