पुनी पुनी चंदन पुनी पुनी पानी…

पुनी पुनी चंदन पुनी पुनी पानी….

अपनी सहेली के ग्रहप्रवेश के फोटो देखने के बाद.आज बचपन की एक कहानी याद आ गयी.

एक गुरुजी होते है, उनके शिष्य बहुत मूर्ख और आलसी होते है.
गुरु जी को एक समय, बहुत आवशयक काम से, दूसरे शहर जाना होता है.
अपने सबसे मूर्ख और आलसी चेले को, वो एक काम सौपकर जाते है.
ये सोचकर की इस काम को करने से, चेला कुछ सीखेगा और कम आलसी बनेगा.
सुबह ४ बजे से जागकर, शालिग्राम जी (काले वाले शंकर जी), को नहलाना है,
हर बार नहलाने के बाद चंदन लगाना है,
कुछ खास मन्त्र याद करके, उनकी पूजा करनी है, और भी बहुत कुछ.
चेला तो चेला… कुछ भी नही किया…
जिस दिन गुरु जी आने वाले थे, उस दिन भाग कर नदी गया,
ताकि भगवान को नया चंदन लगा सके, नदी मे शालिग्राम जी बह गये.
चेला तो चेला… बहुत सोचा क्या कर, क्या उत्तर दे, गुरु जी को?
रास्ते मे उसे एक जामुन का पेड़ मिला, उसमे से एक जामुन गिरा,
शिष्य को रास्ता मिल गया…
जब गुरु जी आए, उन्होने शालिग्राम जी को छूकर देखा, तो पूछा,
शालिग्राम जी ऐसे, पिलपिले( चिपचिपे) कैसे हो गये?
शिष्य बोला, आपने ही कई बार भगवान नहलाने और चन्दान लगाने कहा था,
पुनी पुनी चंदन, पुनी पुनी पानी, शंकर सड़ गये हम क्या जानी?????
(अब , बार बार ऐसा करने से शंकर जी “सड़” गये और पिलपिले हो गये… तो मैं कैसे जानूं?)
हा हा हा…
कहानी की शिक्षा बहुत सारी है… तुम खुद सोच सकते हो, अगर चेले सा दिमाग़ नही होगा तो…

Published in: on मार्च 25, 2010 at 9:49 पूर्वाह्न  Comments (1)  

सूरज की पहली किरण

भरी धूप मे, आज ऑफीस जाते समय ही उसने सोच लिया था, शाम को घर वापस जाते समय, आज मंदिर जाऊंगी…
मंदिर मे हाथ जोड़े खड़े, मन न जाने कितनी पूरनी बातों और यादों से भर गया… आँखों से फिर कुछ आँसू गिर गये, सिर पर रखा दुपट्टा संभालते हुए, साथ ही आँसू भी पोछ लिए… पीछे से एक आवाज़ आई, चलो घर, बहुत देर हो गयी, पिछले नौ सालों से तुम यहाँ आती हो और न जाने कहाँ-कहाँ जाती हो, तुम्हे क्या मिला?

घर पहूचकर ठंडा पानी पी ही रही ही थी की, फ़ोन की घंटी बज़ उठी… एक २ दिन का बच्चा, मरणासन्न अवस्था मे, हॉस्पिटल मे पड़ा है, आना है क्या उसे देखने? पानी आधा ही छोड़कर, अपनी बात आधी-अधूरी समझाती हुई, पति को साथ चलने कह  निकल पड़ी… कितने सालों से, अपने सभी  आत्मीय लोगों को समझा रही थी, कितना इलाज करवाया, आधुनिक तकनीकों का भी सहारा लिया… शारीरिक और मानसिक तकलीफ़ के अलावा कुछ भी न मिला… अती शिक्षित, अती आधुनिक सोच वाले परिवार का हिस्सा होते हुए भी, अपनी बात, अपनी सोच से किसी को भी बदल नही पा रही थी… यहाँ तक की, हर कदम पर साथ देने वाले अपने जीवन साथी को भी समझाने मे असफल थी… नौ सालों का लंबा, एकाकी सफ़र, सब कुछ होते हुए भी कोई कमी, उसे अंदर से खोखला कर चुकी थी…

हॉस्पिटल मे पहुचते ही, जैसे बच्चे को देखा, लगा की कल, सूरज की पहली किरण भी ना देख पाएगा, पर मन से कहीं आवाज़ आई, इस माह मिली तनख़्वा अगर खर्च भी कर दूं और शायद बच्चा बच जाए, तो एक माँ को उसका बच्चा मिल जाए… जो सुख मुझे ना मिल पाया, वो इस ग़रीब को मिल जाए…उस औरत के साथ  dr. से मिलने गयी… dr. ने खर्चा बताने के पहले ही ये बात दावे से कह दी, अड़तालीस घंटे निकलना असंभव है… रुपये लगाने के पहले सौ बार विचार कर लें, वो बेचारी  ग़रीब औरत ये सुनकर ही लापता होगा यी, माँ का दिल जो था..

न जाने क्यों उसकी इक्षा शक्ति या प्यार देखकर, पति ने साथ दिया… दोनो ३दिनों तक उसके सिराहने बैठे रहे… ३दिनों बाद सूरज की पहली किरण के साथ जब उस मासूम ने आँखें खोली तो, इन्हे सब मिल गया, कई दिनों की क़ानूनी कार्यवाही के बाद आज “सूरज” आपनी माँ के आँचल मे निकला…