हो सके तो, लेती आना….

मैं यहाँ बहुत दूर हूँ घर से,
सात समंदर पार हूँ जब से,
ना सौंधी मिट्टी की खुशबू पाती हूँ,
ना नीले आसमान का आँचल पाती हूँ,

पापा का आँगन, दूर है जब से,
माँ आँचल, सिर पर ना जब से,
अपने आँगन मे, रेखा ना कोई पाती हूँ,
माँ के प्यार को बस, अपने मन मे ही, निधि पाती हूँ,

ना माँ के हाथ का खाना है,
ना पापा की, प्यार भरी नसीहत है,
सब कुछ, खाली-खाली और कम सा है,

तुम आते-आते, हो सके तो, लेती आना….
इनमे से, किसी, एक का भी, आधा सा ही, अपना-पन लेती आना…

 

Advertisements

One Comment

  1. Jeevan mein kuchh achhi aur kuchh buri aadatein hoti hain jo asani se peechha nahi chhodati, aisi hi ek achhi adat tumhari poem padhna hai… tumne sahi kaha door hone par hamein Maa Papa ki hi sabse jyada yaad aati hai… aur unke diye Sanskar hi hamare Sambal bante hain… Bahut sunder… Please Keep Writting…


टिप्पणियाँ बंद कर दी गयी है.

%d bloggers like this: