चाहे जले हमारा जहाँ

चाहे जले हमारा जहाँ,
रौशन रहे उनका जहाँ,
जहाँ रहे चाहत हमारी…
न आए उन पर,
कोई भी आँच, जहां की…
वो खुश रहे, अपने साथी संग,
पीड मिले, हमे उनकी सारी…
खुश रहूं, तुम्हे खुश देखकर,
ये दुआ है हमारी…

जलूंगी मगर , उसकी किस्मत से  बहुत,
जो रहेगी, हमारी अधूरी किस्मत, के संग…

आह भर, रो कर भी, हम तुम्हे खुशियों की दुआए देते है…
क्योंकि… तेरी खुशियों से ही है, दुनिया हमारी…

Advertisements

2 टिप्पणियाँ

  1. khoobsurat rachana .
    चाहे जले हमारा जहाँ,
    रौशन रहे उनका जहाँ,
    sundar bhavana bhi .

  2. aapki rachna yakeenan pasand aai, isame mujhe desh ke haalaat bhi dikhe..bharat-pakistaan ke beech kuchh isi tarah ka hota he,,ham filhaal usake saath kuchh isi tarah ka rvayaa apna kar rakhe hue he../
    vese dinbhar akhbaari kaamkaaz me ese khyalat jyada aate he, aap anyathaa naa le. aap bhi soch kar dekhiye kuchh isi tarah ka dikhaai dega.


टिप्पणियाँ बंद कर दी गयी है.

%d bloggers like this: