छोटे-छोटे सपने कब बड़े हो गये?

छोटे छोटे सपने थे,
पास मेरे सब अपने थे,
न थी चाह, आसमान मे उड़ाने की,
धरती ही मेरी अपनी थी,

बड़ा सोचो, बड़े सपने देखो,
जो चाह न मेरे अपनी थी,

जीना था, तो अपनो से लड़ना था,
जीतना था, तो अपना सब हराना था,
ये राह न मेरी अपनी थी,

सपने देखे, जिए और पूरे किए,
लड़ाई लड़ी और जीती भी,
राह मे आगे और आगे बढ़ गये,

थोड़ा ठहरकर जो सांस ली,
बड़े सपने, जो न दिल के थे,
सब पूरे हो गये,
छोटे सपने, जो दिल के अपने थे,
सब अधूरे रह गये,

पता ही नही चला…
छोटे-छोटे सपने कब बड़े हो गये?
मेरे सब अपने कब दूर हो गये?
आसमान का तो कोई छोर नही,
पैरों के नीचे की धरती, भी खिसक गयी…

पता ही नही चला…
छोटे-छोटे सपने कब बड़े हो गये?

 

Advertisements

2 विचार “छोटे-छोटे सपने कब बड़े हो गये?&rdquo पर;

  1. “छोटे , छोटे सपने कब बड़े हो गए ?”…..निधि , मैंने तो आजतक बड़ा सपना देखा ही नही ….मैंने तो अपने लिए सपने देखेही नही …अपनों के लिए देखे ..! लेकिन जब उनके सपने पूरे नही हुए तो इलज़ाम मुझ पे लगे ….!
    कितना अनुभव संचित दर्द छुपा है,निधी, आपकी इस रचना में…एक आह निकली है दिलसे..!
    यही विडम्बना है ज़िंदगी की …

    duaa karte hun, ye kewal rachna tak seemit ho, aapkee zinagee me na shamil ho..!

    http://kavitasbyshama.blogspot.com

    http://shamasansmaran.blogospot.com

    http://shama-kahanee.blogspot.com

    http://aajtakyahantak-thelightbyalonelypath.blogspot.com

    http://shama-baagwaanee.blogspot.com

    http://fiberart-thelightbyalonelypath.blogspot.com

thanks a lot.

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.