– कहा करते थे –

1)
“वो”, मुझसे, बेइंतहाँ प्यार करता था,
ऐसा वो और लोग मुझसे कहा करते थे,
मेरे कारण उसके लबों मे हँसी,
और आँखों मे पानी आया करता था,
ये हम भी देखा करते थे…
उसे प्यार से हम, “पागल” कहा करते थे…
2)
हमने कुछ महसूस किया/कुछ नहीं किया,
उसको नाकार कर, बहुत सारी बातें समझाकर,
ये भी मानकर की, हमने उन्हे समझा दिया है,
“बेवफ़ाई” का बोझ भी अपने दिल से हटाकर,
और ये मानकर/मनाकर की,
समय के साथ, “वो पागल”… भी समझ जाएगा,
अपना दिल हल्का कर हम आगे चल दिए…
3)
“उससे”, मैं, बेइंतहाँ प्यार करती हूँ,
ऐसा मैं और मेरे जानने वाले, मुझसे कहा करते है,
उसके कारण मेरे लबों पे हँसी,
और आँखों मे पानी आता-जाता रहता है,
ये वो भी देखा करते है…
प्यार से मुझे, “पगली” कहते है…

वो बेचैनी, वो तड़प, वो दर्द, वो ग़म…
वो आँसू, वो जलन, वो चुभन, वो तपन…

हम भी महसूस करते है, न जीते है/न मरते है…
उस बिन मेरी साँसे,रुक जाएँगी,ये जाना/माना करते है…
4)
उसने कुछ महसूस किया/कुछ नहीं किया,
हमको नाकार कर, बहुत सारी बातें समझाकर,
ये भी मानकर की, उसने हमे समझा दिया है,
“बेवफ़ाई” का बोझ भी अपने दिल से हटाकर,
और ये मानकर/मनाकर की,
समय के साथ, “ये पगली”… भी समझ जाएगी,
अपना दिल हल्का कर वो आगे चल दिए…
5)
“वो” जो मुझसे बेइंतहाँ प्यार करता था,
उसका दर्द, मेरे दिल मे समझ आता है अब…
जब…
“उसने” जिसे मैं प्यार करती हूँ,
मेरे प्यार को नाकारा है अब…

एक ही आवज़ आती है हमेशा…

एक बार मिलूं उससे,
जिसे मैने ठुकराया था…

एक बार उसे भी ठोकर लगे,
जिसे मैने अपनाया है…

जो मुझको महसूस हुआ?
क्या???
वो, उनको भी महसूस होगा?

एक दूजे की…
बेचैनी, तड़प, दर्द, ग़म…
आँसू, जलन, चुभन, तपन…
को समझेंगें?

एक-दूजे से मिलकर, मुस्कुराकर, जीवन की राह मे, आगे चल देंगे?

 

 

 

Advertisements

The URI to TrackBack this entry is: https://nidhitrivedi28.wordpress.com/2009/07/03/%e0%a4%b5%e0%a5%8b-%e0%a4%aa%e0%a4%be%e0%a4%97%e0%a4%b2%e0%a4%be-%e0%a4%af%e0%a5%87-%e0%a4%aa%e0%a4%97%e0%a4%b2%e0%a5%80/trackback/

RSS feed for comments on this post.

3 टिप्पणियाँटिप्पणी करे

  1. Again a gr8 poem… samajh nahi aata kis poem par compliment du aur kise jaane du unchhui….

  2. प्रेम भरे भावों की सुन्दरतम प्रस्तुति,रचना बहुत अच्छी लगी..बहुत बहुत धन्यवाद…..आप का ब्लाग अच्छा लगा…बहुत बहुत बधाई….

  3. यादों में डूबी हुई ,
    तन्हाईओं में गर्क
    गर्म सांसो में लिपटी
    गुलाब की पंखुरियों सी नाज़ुक
    oos की बूंदों की नमी लेकर
    आंसुओं सी नमकीन
    है यह तुम्हारी ग़ज़ल .

    देखा
    आपको पढ़ कर हम भी शायर हो गए .
    शुक्रिया , शुक्रिया शुक्रिया आपका .


thanks a lot.

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

w

Connecting to %s

%d bloggers like this: