स्त्री की परीक्षा लेनी हो…

हर बार क्यों लक्षमण रेखा खिचाती है?
हर बार क्यों अग्नि परीक्षा होती है?

जब राम ही नही है आज यहाँ?
फिर सीता की इच्छा क्यों होती है?

हर बार जब स्त्री की परीक्षा लेनी हो
वो राम का रूप क्यों धरता है?

याद रखे हर वो पुरुष
जो सीता की इच्छा रखता है
 
 
 
 
 
 
राम भी तुम, लक्षमण भी तुम और रावण भी तुम
तुम ही  संरक्षक  और  भक्षक भी तुम

फिर सीता का दोष ही क्यों दिखता है?

जो बच गयी हर परीक्षा से वो सीता थी…
आम नारी नही…
वो भी…
दूजी  परीक्षा मे, धरती मे समा गयी…

 आज जब तुम,  राम ना  बन सकते हो
फिर सीता की परीक्षा क्यों लेते हो?

Advertisements

मैं अधूरी हूँ, पूरी कर जाओ

मेरी आँखों के आँसू आज थमते नही है
ये सिसकियाँ मेरी रुकती नही है
ना जाने क्या बात हुई आज की
हम जीते नही मरने लगे है

भोर होते ही यूँ लग रहा था
आज कुछ कमी सी है
दर्द था जो दिल मे कहीं छुपा हुआ
आज उभर कर आ ही गया

ना जाने आज ये क्यों हुआ
पर आज कुछ गॅमी सी है
भूल गयी थी जिन बातों को
समय संग आगे चल पड़ी  थी

वो समय आज फिर रुक गया
मैने  जो तिथि आज देख ली

हृदय वेदना से भर गया
जो दर्द तन मे हो रहा था
वो मन के घावों की याद दे गया

भूल गयी थी आज  की तिथि
जो मुझे “माँ” नाम दे सकती थी

गुज़र गये यूँ महीने नौ
जो तुम होते तो,
मेरे आँचल मे भी एक तस्वीर उभर सकती थी

जो ना याद रखे कोई तुम्हे
मेरा दिल तुम्हे याद करता है

मुझे जो छोड़ गये हो अधूरा
एक बार फिर से आ जाओ

तुमसे वादा करती हूँ
तुम्हारा पूरा ध्यान रखूँगी
इस बार कोई ना ग़लती करूँगी

मिट भी जाऊ, तो भी तुम्हे लाकर रहूंगी

वो दर्द जो मैं न सहा, वो ख़ुशी जो मुझे न मिली

आकर वो मुझे दे जाओ

मेरी सुनी गोद पड़ी है
राह तुम्हारी देख रही है
मेरी वेदना को सुन जाओ
मैं अधूरी  हूँ ,पूरी कर जाओ

एक बार तुम आ जाओ…
 

आज फिर मन उदास है,

आज फिर मन उदास है,
कोई अपना नही पास है…

              चल रही हूँ जिन रहो मे,
              कभी फूल है कभी काँटे है…

काँटों से दामन छलनि हो जाए,
पर फूलों की मुझे आस है…

              रात के आँधियारों से डर क्या मुझे, 
              धूप की तपन की आदत है मुझे…
 
बारीशों मे भी जिसने जलना सीखा,
तूफ़ानों से उसे कुछ आस है…

             परयों से डर क्या मुझे,
             डर  तो अपने आप से है..